कर्नाटक में मंत्री बोले, राज्य में कोरोना का सामाजिक संक्रमण

बंगलूरु। कोरोना वायरस संक्रमण के बीच कम्युनिटी ट्रांसमिशन की चर्चा लगातार होती है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार इस बात का दावा कर रहा है कि भारत में अभी तक कम्युनिटी ट्रांसमिशन के मामले सामने नहीं आए हैं। वहीं

बंगलूरु। कोरोना वायरस संक्रमण के बीच कम्युनिटी ट्रांसमिशन की चर्चा लगातार होती है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार इस बात का दावा कर रहा है कि भारत में अभी तक कम्युनिटी ट्रांसमिशन के मामले सामने नहीं आए हैं। वहीं, कर्नाटक के मंत्री जेसी मधुस्वामी ने सोमवार को कहा कि कर्नाटक में कोरोना का संक्रमण सामुदायिक स्तर पर फैलने लगा है।

टुमकुरू जिला के प्रभारी मंत्री मधुस्वामी ने मीडिया को बताया, 'टुमकूर के कोविड अस्पताल में भर्ती कोरोना वायरस के आठ मरीजों की स्वास्थ्य स्थिति काफी चिंताजनक है। जानकारी के मुताबिक उनके बचने की संभावना कम ही है। हम इस बात को महसूस कर रहे हैं साथ ही साथ डर भी रहे हैं कि कोरोना का संक्रमण कम्युनिटी स्तर पर हो रहा है। 

उन्होंने कहा, "हम एक ऐसे बिंदु पर पहुंच गए हैं, जहां जिला अधिकारियों के लिए इसे रोकना मुश्किल है। भले ही हम इस पर लगाम लगाने की कोशिश कर रहे हों, लेकिन कहीं न कहीं स्थिति हाथ से निकल रही है।"

मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, डिप्टी सीएम अश्वथ नारायण, चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. सुधाकर ने कर्नाटक में कोरोना वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन से इनकार किया है। आपको बता दें किस्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, कर्नाटक में 13,255 और 372 लोगों सहित 23,474 कोरोनो वायरस के मामले हैं।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग