हमारे 80 लोगों को पहले रिहा करो फिर करेंगे बात


नई दिल्ली: भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का इमोशनल वीडियो वायरल होने के बाद किसान आंदोलन (Farmers Protest) वापस जोर पकड़ने लगा है.

 

 

नई दिल्ली: भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने सरकार से बाचतीच करने से इंकार कर दिया है। उन्होंने बातचीत से पहले एक शर्त रख दी है। उन्होंने कहा कि जबतक हमारे 80 के करीब बंद किसानों की रिहाई नहीं हो जाती तब तक हम बातचीत नहीं करेंगे। वे दिल्ली की सीमा गाजीपुर में जमा हैं और कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.  

 

टिकैत ने कहा कि ये आंदोलन महाभारत की तरह है. इसमें किसानों की जीत होगी. किसान अपनी पगड़ी नीचे नहीं आएगी. सरकार भले ही बातचीत की बात कह रही है. लेकिन जब तक हमारे जेल में बंद लोग रिहा नहीं होते ये बातचीत नहीं होगी. हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की पहल का समर्थन करते हैं. हम पीएम मोदी की बातों का मान और किसान की पगड़ी का भी सम्मान रखना जानते हैं. बातचीत जरूर होगी, लेकिन किसानों भाइयों की रिहाई के बाद.

 

 

 

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री ने गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में हुई हिंसा के कुछ दिन बाद शनिवार को कहा था कि प्रदर्शनकारी किसानों के लिए उनकी सरकार का प्रस्ताव अब भी बरकरार है और बातचीत में महज एक फोन कॉल की दूरी है. टिकैत ने कहा कि हम प्रधानमंत्री की गरिमा का सम्मान करेंगे. किसान नहीं चाहते कि सरकार या संसद उनके आगे झुके.

 

 

 

 

बताते चलें कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर ट्रैक्टर परेड के दौरान कई प्रदर्शनकारी लाल क़िला पहुंच गए थे और वहां अपने धार्मिक झंडे लगा दिए थे. जिसके बाद दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने इस मामले में करीब 40 मामले दर्ज किए और 80 से अधिक लोगों को गिरफ्तार कर लिया. लेकिन अब किसान नेता सभी की रिहाई की मांग कर रहे हैं

 

 

 

 

 

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग