farmer movement: किसानों ने नेशनल हाईवे किया जाम, पुलिस भी सड़क पर उतरी

कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है. संयुक्त किसान मोर्चा ने 6 फरवरी को चक्का जाम का आह्वान किया है, हालांकि चक्का जाम को लेकर मोर्चा की तरफ से कुछ बातें साफ की गई हैं, "जिसमें पहला की दिल्ली की सीमा के अंदर कोई चक्का जाम प्रोग्राम नहीं होगा,. संयुक्त किसान मोर्चा ने 6 फरवरी को होने वाले चक्का जाम पर कुछ महत्वपूर्ण दिशा निर्देश जारी किए हैं,

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले दो महीने से भी ज्यादा समय से किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। अपने आंदोलन को और धार देने के लिए किसान संगठनों ने शनिवार को देशव्यापी चक्का जाम का आह्वान किया था। तीन घंटे तक चले इस चक्का जाम का दिल्ली से लेकर कश्मीर तक असर देखने को मिला। जहां प्रदर्शनकारी सड़कों पर बैठ गए। इससे आमजनों को काफी परेशानी हुई। वहीं हरियाणा में ट्रैफिक में फंसे लोगों को किसानों ने पानी और भोजन उपलब्ध कराया। दूसरी और कांग्रेस के राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, दिग्विजय सिंह और केसी वेणुगोपाल ने किसानों के चक्का जाम का समर्थन किया। दूसरी ओर किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए दिल्ली पुलिस ने इस बार सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किए हुए थे। दिल्ली-एनसीआर में 50 हजार सुरक्षाबलों को तैनात किया गया था। वहीं ड्रोन के जरिए सीमाओं की निगरानी की जा रही थी। गाजीपुर बॉर्डर पर रैपिड एक्शन फोर्स सहित दिल्ली पुलिस के जवानों की भारी संख्या में तैनाती की गई थी। इसके अलावा वाटर कैनन, बम और डॉग स्क्वॉड को स्टैंडबाय मोड पर रखा गया था। अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए सोशल मीडिया पर दिल्ली पुलिस की पैनी नजर थी।

आपको बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा ने 6 फरवरी को चक्का जाम का आह्वान किया था। चक्का जाम को लेकर मोर्चा की तरफ से कुछ बातें साफ की गई हैं, "जिसमें पहला की दिल्ली की सीमा के अंदर कोई चक्का जाम प्रोग्राम नहीं होगा,. संयुक्त किसान मोर्चा ने 6 फरवरी को होने वाले चक्का जाम पर कुछ महत्वपूर्ण दिशा निर्देश जारी किए हैं, जिसमें देश भर में राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों को दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक जाम किया जाएगा.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग